Featured Posts

[Travel][feat1]

Best electrical youtube channel kya hai

December 27, 2020

Best electrical engineering youtube channel kya hai

दोस्तों मैं राजीव सैनी और आपका हमारी वेबसाइट पर स्वागत है दोस्तों आज मैं आपको बेस्ट इलेक्ट्रिकल युटुब चैनल्स के बारे में बताऊंगा अगर आप आईटीआई पॉलिटेक्निक या बीटेक के स्टूडेंट हैं या फिर आप किसी भी तरह का इलेक्ट्रिकल का कार्य करते हैं या आप कोई इलेक्ट्रिशियन है तो यह पोस्ट आपके लिए बहुत ही ज्यादा कारगर होने वाला है दोस्तों आज के समय में इलेक्ट्रिकल के बिना कुछ भी नहीं है 

और इलेक्ट्रिकल की सही जानकारी होना एक इलेक्ट्रिशियन या इलेक्ट्रिकल के फील्ड से जुड़े हुए व्यक्ति के लिए जानना बहुत ही ज्यादा आवश्यक है 

Best electrical youtube channel


तो फ्रेंड आज मैं आपको कुछ बेस्ट युटुब चैनल के बारे में बताने जा रहा हूं जोकि अपने यूट्यूब चैनल पर प्रैक्टिकल इलेक्ट्रिकल वीडियोस बनाते हैं जिससे कि आपको बहुत ही ज्यादा फायदा हो सकता है अगर आप यह यूट्यूब  चैनल सब्सक्राइब करते हो तो आपको यहां पर रेगुलर इलेक्ट्रिकल और मैकेनिकल से रिलेटेड प्रैक्टिकल वीडियोस मिलती रहेगी जिससे कि आप किसी भी इंटरव्यू को ट्रैक कर सकते हैं तो आप नीचे दिए गए चैनल पर जाकर उसे सब्सक्राइब करके देख सकते हैं कि यह किस तरह की वीडियो  बनाते हैं और इनके चैनल को सब्सक्राइब करके आप इन के नए वीडियोस के नोटिफिकेशन भी पा सकते हैं

Best electrical YouTube channels in india

लेके फ्रेंड जो चैनल हमने ऊपर बताए हैं यह इंडिया के बेस्ट इलेक्ट्रिकल यूट्यूब चैनल से आप जाइए और इनमें से किसी चैनल को सब्सक्राइब करिए देखिए जो नंबर वन यूट्यूब चैनल है उसको मैं खुद ही यूज करता हूं नंबर वालों को तो आप भी उसको यूज कर सकते हैं जाइए और सब्सक्राइब करिए शाम को काफी ज्यादा फायदा होगा

Best YouTube channel for electrical engineering in Hindi

लेकिन फ्रेंड सामने जो ऊपर आपको यूट्यूब चैनल से बताए हैं यह चैनल्स काफी ज्यादा लोगों द्वारा योग करे जाते हैं और यह यूट्यूब पर नंबर वन पर रंग करते हैं और कई सारे स्कूल द्वारा भी इंश्योरेंस को प्रयोग करा जाता है अपने स्टूडेंट को प्रैक्टिकल नॉलेज देने के लिए तो आप भी इनको यूज कर सकते हैं जिससे कि आपके नॉलेज में काफी ज्यादा बढ़ोतरी होगी

Best electrician YouTube channels

 देखिए दोस्तों अगर आप बेस्ट लेक्टेशन यूट्यूब चैनल सर्च कर रहे हैं तो आप नंबर वन यूट्यूब चैनल का लिंक हमने ऊपर दे रखा है आप उसको जाकर ससुरा कर लीजिए यह बेस्ट लेटेस्ट नेम यूट्यूब चैनल है क्योंकि यहां पर प्रैक्टिकल टैक्टिकल इंडस्ट्रीज वीडियो शेयर किए जाते हैं तो आप चैनल पर जाइए और उसको ससुरा करिए तथा बैल आइकन को जरूर दवा लीजिए जिससे कि आपको नए वीडियो के नोटिफिकेशन समय-समय पर मिलते रहेंगे यह चैनल रेगुलर पेपर वीडियो अपलोड करते रहता है

Best YouTube channels for engineering students

Best you tube channel for electrical engineering

Best YouTube channel for electrical engineering Quora

लेकिन हमने जितने भी चैनल के बारे में आपको बता रखा है यह सभी चैनल बेस्ट हैं यदि आप को इनमें से कोई चैनल पसंद नहीं आता तो आपको है ना पर जाकर भी सर्च कर सकते हैं और मैं आपको बता देना चाहता हूं कि तेरा पर भी इन्हीं चैनल की सजेशन दी जाती है तो आप घूम फिर कर ऐसी पोस्ट पर पहुंचेंगे या फिर इन्हीं चला उस पर पहुंचेंगे तो मैं आपको बोलना चाहता हूं कि आप इतना ज्यादा ना वह सीधे यहां पर इंसान उसको जाकर ससुराल में अगर आप फिर भी चाहते हैं और ज्यादा सर्च करना तो आप गूगल पर जाकर सर्च कर सकते हैं

Best YouTube channel for electrical Engineering GATE

Best YouTube channel for ECE students

Electrical engineering - youtube

लेकिन फ्रेंड्स मैंने जो ऊपर यूट्यूब चैनल बताया है इलेक्ट्रिकल का यह इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग का नंबर वन यूट्यूब जाना है जिसको मैं खुद ही प्रयोग करता हूं और मैं उसको काफी समय से प्रयोग कर रहा हूं और इस समय मैं एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर हूं तो कहीं ना कहीं मुझे समय में बहुत ही ज्यादा हेल्प करिए तो मैं आपको बोलना चाहता हूं कि आप भी चैनल को सब्सक्राइब करें और बैल आइकन को दबाए ताकि आपको नहीं वीडियोस के नोटिफिकेशन मिलते रहे

Best Robotics YouTube channels

NPTEL Electrical Engineering youtube

आशा करता हूं कि आपको यह वीडियो अच्छी लगी होगी अगर आपको इसी तरह की और पोस्ट चाहिए तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं और आप इलेक्ट्रिकल के स्टूडेंट है तो आपके मन में कोई ना कोई क्वेश्चन तो आता ही रहता होगा तो आप अपने क्वेश्चंस को हमारे यूट्यूब चैनल और हमारे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके भेज सकते हैं जिससे कि मैं अपनी अगली पोस्ट आपके टॉपिक पर लिख दूंगा और आपको बोले तो मैं उसके ऊपर कोई वीडियो भी बना दूंगा जिससे कि आपके नॉलेज में काफी ज्यादा बढ़ोतरी होगी और आप हमारे चैनल पर बने रहेंगे इससे हमें भी फायदा हुआ तो आशा करता हूं कि आप हमारे चैनल पर विजिट करेंगे और सब्सक्राइब करेंगे धन्यवाद तो मिलते हैं अपनी नेक्स्ट पोस्ट के साथ

Best electrical youtube channel kya hai Best electrical youtube channel kya hai Reviewed by Rajeev Saini on December 27, 2020 Rating: 5

वाटर पंप क्या होता है ? वाटर पंप कितने प्रकार के होते है

December 25, 2020

Water Motor pump set क्या होता है ?

इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा की मोटर पंप सेट कैसे बनाया जाता है वह कैसे काम करता है और इसका उपयोग कहां कहां होता है मोटर पंप सेट में एक मोटर होती है तथा एक हमारा पंप होता है यह दोनों मिलकर हमारा मोटर पंप सेट बनता है तो चलिए जानते हैं 

वाटर पंप क्या होता है ? वाटर पंप कितने प्रकार के होते है



मोटर पंप सेट क्या होता है और यह कैसे काम करता है 


जैसे कि मैंने आपको बताया कि एक मोटर पंप सेट में एक मोटर होती है जब मोटर चलती है तो मोटर पंप भी चलने लगता है  यह दोनों आपस में एक कप लिंग द्वारा जोड़ दिया जाता है जिससे की मोटर जब चलेगी तो हमारा पंप की उसके साथ घूमने लगेगा पंप के अंदर एक इंपैलर होता है 


इंपैलर एक तरफ से पानी को suck करता है और दूसरी तरफ पानी को फेंक देता है सीधे तौर पर हम यह कह सकते हैं कि पंप का कार्य एक तरफ से पानी को उठाकर दूसरी जगह पर भेजना होता है यह पंप हमारी मोटर के अनुसार छोटे या बड़े हो सकते हैं जैसे-जैसे मोटर ज्यादा एचपी की होगी है तो हमारा पंप भी ज्यादा बड़ा होते जाएगा मोटर पंप का एक प्रयोग विभिन्न जगहों पर पानी तथा किसी भी अन्य प्रकार के fluid को एक जगह से दूसरी जगह तक भेजने के लिए करा जाता है


 वाटर पंप क्या होता है


देखिए मैंने इस समय लिखा कि लोग गूगल पर वाटर पंप तथा मिनी पंप और वाटर पंप घर पर कैसे बनाएं यह सब गूगल पर सर्च कर रहे हैं तो देखिए इन सभी पंप का सिद्धांत एक ही होता है कि हमें कोई भी बनाने के लिए हमें एक्सटर्नल एनर्जी चाहिए ही चाहिए जो कि हम ज्यादातर मोटर द्वारा ही लेते हैं और अगर आपको किसी भी प्रकार का पंप बनाना है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बताइए और वाटर पंप बनाने की टेक्निक हमारे यूट्यूब चैनल पर भी अवेलेबल है अगर आपको किसी अन्य प्रकार का वाटर पंप गूगल पर सर्च कर सकते हैं अगर आपको किसी भी प्रकार की कोई जानकारी चाहिए तो मैं आपको जानकारी देने की पूरी कोशिश करूंगा


आशा करता हूं कि आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई होगी मैं इसी प्रकार की इलेक्ट्रिकल मैकेनिकल से रिलेटेड पोस्टों को अपने इस वेबसाइट पर डालते रहता हूं आपको हमारी वेबसाइट पर इंजीनियरिंग सेल लेटर हर प्रकार की पोस्ट मिल जाएगी तो कृपया आप हमारी वेबसाइट में वन बाई वन हमारी पोस्टों को देखकर उन्हें पढ़ें जिससे कि आप की नॉलेज में काफी ज्यादा इंक्रीमेंट होगा और अगर आपको किसी अन्य टॉपिक पर कोई जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं जिससे कि मैं कोशिश करूंगा कि आपको इस प्रकार की जानकारी के ऊपर एक पोस्ट लिख दूं जिससे कि आपको और ज्यादा जानकारी प्राप्त होगी


1 एचपी वॉटर पंप क्या होता है फ्रेंड्स 1 एचपी वॉटर पंप का मतलब होता है वह वाटर पंप जिसकी मोटर 1 एचपी की हो उसे हम 1hp वॉटर पंप कहते हैं


वाटर पंप कितने प्रकार के होते है वाटर पंप मोटर पंप कितने प्रकार की होती है वैक्यूम पंप क्या है टाइप्स ऑफ़ पंप फायर पंप कितने प्रकार के होते हैं जल पंप में कितने वाल्व होते हैं पम्प क्या है साइकिल पंप और फुटबॉल पंप में क्या अंतर है हाइड्रोलिक पंप कितने प्रकार के होते हैं शक्ति सोलर पंप सोलर वाटर पंप

वाटर पंप क्या होता है ? वाटर पंप कितने प्रकार के होते है वाटर पंप क्या होता है ? वाटर पंप कितने प्रकार के होते है Reviewed by Rajeev Saini on December 25, 2020 Rating: 5

Timer क्या होता है , वर्किंग , connection क्या है ?

December 18, 2020

 Timer क्या होता है, workings

हेलो दोस्तो आपका हमारी वेबसाइट ecinhindi में स्वागत है आज हम बात करेंगे कि टाइमर क्या होता है और यह कितने प्रकार के होते हैं आजकल ऑटोमेशन इंडस्ट्री में टाइमर बहुत ज्यादा प्रयोग होने लगा है किसी भी प्रकार की ऑटोमेशन को करने के लिए टाइमर की आवश्यकता तो होती ही है टाइमर का प्रयोग आरएलसी तथा plc दोनों में प्रयोग होता है।

Timer क्या होता है

 टाइमर क्या होता है ?

 timer1 इलेक्ट्रोमैकेनिकल डिवाइस है तथा कहीं-कहीं पर यह पूरी तरह से इलेक्ट्रिकल ही होता है हमें विशेषता दो प्रकार के टाइमर देखने को मिलते हैं इलेक्ट्रिकल टाइमर तथा मैकेनिकल टाइमर तथा ज्यादातर हम इलेक्ट्रिकल टाइमर का ही प्रयोग करते हैं इलेक्ट्रिकल टाइमर दो प्रकार के होते हैं ऑन डिले टाइमर तथा ऑफ delay टाइमर का उपयोग किसी प्रोसेस को रिपीट करने के लिए तथा कुछ समय बाद करने के लिए करा जाता है ।

टाइमर की वर्किंग तथा कनेक्शन कैसे होता है ?

 देखिए सभी प्रकार के टाइमर में A1 तथा A2 दो कॉइल होती हैं जिसमें A 2 को न्यूट्रल सप्लाई दी जाती है तथा A1 को फेस दिया जाता है तथा टाइमर में एक कॉमन तथा 1nc और no टर्मिनल होते हैं लेकिन कुछ टाइमर में 2 कॉमन तथा दो no, nc terminal होते हैं हम A1 सप्लाई को कॉमन टर्मिनल पर देते हैं जो कि ऑन delay में जो टाइम सेट किया जाता है उसके अनुसार no से nc हो जाता है इसका अर्थ है यदि हमने on delay timer में 5 सेकंड का टाइम सेट किया है तो 5 सेकेंड बाद nc तथा no change हो जाएगा

Types of timer

1- on delay timer

देखिए ऑन delay टाइमर का कार्य होता है टाइमर की कॉइल को ऑन होने में ढीले देना मतलब इस टाइमर में no,nc कांटेक्ट टाइमर में सेट किए गए टाइम पूरा हो जाने के बाद चेंज होते हैं जैसे कि हमने टाइमर में 5 सेकंड का समय सेट कर रखा है तो टाइमर के एन ओ एन सी कॉन्टेक्ट 5 सेकंड बाद ही चेंज होंगे तथा वह अपनी उसी स्थिति में रहेंगे जब तक कि A1 सप्लाई ऑफ नहीं होती है ।

2- off delay timer

  Off delay timer , on delay timer का उल्टा काम करता है।

आशा करता हूं आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई होगी अगर आपको इसी तरह के कि इलेक्ट्रिकल चेलेटेड कोई भी जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं अगर आपका कोई भी किसी भी प्रकार का इलेक्ट्रिकल से रिलेटेड क्वेश्चन है तो आप हमें अवश्य ही कमेंट बॉक्स में कमेंट करके अपना क्वेश्चन सेंड कर दीजिए जिससे कि हम अपनी अगली पोस्ट आपके टॉपिक पर लिख दे



Timer क्या होता है , वर्किंग , connection क्या है ? Timer क्या होता है , वर्किंग , connection क्या है ? Reviewed by Rajeev Saini on December 18, 2020 Rating: 5

वोल्टेज और करंट के बीच अंतर क्या है हिंदी में

December 15, 2020

       voltage and current difference in hindi

हमारे readers  अक्सर पूछते है। कि एम्पीयर, वोल्ट और वाट्स में क्या अंतर है?  इसके बहुत ही जटिल उत्तर है।, लेकिन हम यहां पर इसे सरल तरीके से समझाने का प्रयास करेंगे।

 यदि हम बिजली को एक पाइप में बहते पानी के रूप में समझते है।, तो हम एम्पीयर, वोल्ट और वाट के बीच के अंतर को समझ पाएंगे।  यहाँ पानी की मात्रा एम्पीयर है।  पानी  का दबाव voltage है।।

यहां  वाट्स(watt) (वोल्ट×एम्पीयर  ) की शक्ति है (जैसा कि प्राचीन काल में पानी की चक्की चलाने के लिए उपयोग किया जाता था)।  इस उदाहरण से, अब आप नीचे दिए गए वोल्ट, एम्पीयर और वाट की परिभाषा को आसानी से समझ सकते है।।

Voltage ओर current में क्या अंतर होता है


voltage को measure कैसे करें

voltage को मापने के लये हम multimeter,voltmeter,potentiometer आदि का use होता है।।हमे जिस भी electric system का voltage measure करना होता है हम multimeter की दोनो prog को system के parellel में लगा देते है।। voltage नापने के लये college और school में multimeter का use होता है।

Voltage ज्ञात करने के लये formula

इस formule के दुबारा हम voltage, current और resistane ज्ञात कर सकते है।

find the Voltage, ( V )

[ V = I x R ]     

यहाँ पर

 V (volts) = I (amps) x R (ohm/Ω)


voltage को कैसे मापा जाता है ?

अब आप voltage को अच्छी तरह से समझते है।।  अब बात आती है कि voltage को कैसे मापें।  आप समझ चुके है। कि voltage का मतलब उस दबाव से होता है जो करंट को एक तरफ से दूसरी तरफ ले जाता है।  अब यह जानना भी महत्वपूर्ण है कि किस स्तर पर या कितना दबाव आ रहा है 

ताकि हम voltage की क्षमता को समझ सकें।  तो voltage को और भी बेहतर समझने के लिए, आपको voltage को मापने की विधि को जानना होगा।  तो यहां आपको बता दूं कि voltage को मापने के लिए आपको दो चीजों की आवश्यकता होगी।  

पहले आपको एक वाल्टमीटर की जरूरत है और दूसरा आपको ओम के नियम का उपयोग करना होगा।  इन दोनों की मदद से आप voltage के माप के बारे में जान पाएंगे।  


voltage और करंट में अंतर।  voltage और करंट के बीच अंतर क्या है हिंदी में

voltage और करंट के बीच के अंतर को समझना बहुत जरूरी है।  voltage और करंट दोनों ही बिजली से संबंधित तथ्य है। लेकिन दोनों में बहुत अंतर है।  हालाँकि, किसी भी सर्किट या पावर टूल में, दोनों चीजें एक साथ काम करती है।।  

दोनों की मापने की इकाई अलग है और दोनों को मापने की विधि अलग है।  तो यहां हम आपको दोनों के बीच का अंतर बताने जा रहे है।, ताकि आप बिना किसी परेशानी के दोनों के बीच का अंतर जान सकें।

voltage के प्रकार क्या होते है। ?


Control voltage  फैक्ट्री में इंस्ट्रूमेंटेशन से जुड़े कुछ उपकरण भी होते है। जैसे, PLC कंट्रोल वाल्व, सोलेनॉइड जो 110 V और 24 V पर काम करता है। जिसका इस्तेमाल ट्रांसफार्मर से स्टेप डाउन द्वारा किया जाता है।

Single phase voltage


घरेलू उपकरणों के लिए आवश्यक बिजली आमतौर पर 230 वोल्ट A.C होती है जो सिंगल फेज voltage पर काम करती है।  हमारे देश में लाइट, पंखे, फ्रीज, एसी जैसे घरेलू उपकरणों में 230V AC सिंगल फेज voltage की voltage क्षमता है।


Three phase voltage

उद्योगों के बारे में बात करते हुए, 3 phase voltage जैसे रिएक्टर, कारखाने में चलने वाले Vessels 440 V AC की मोटर द्वारा संचालित होते है।।  उच्च स्तर में, कारखाने में राज्य सरकार बिजली बोर्ड से आने वाली बिजली ली जाती है।  जहाँ HT voltage का उपयोग ट्रांसफार्मर से स्टेप डाउन द्वारा HT यार्ड में किया जाता है।


voltage का संयोजन किस प्रकार होता है?

जब voltage को electric धारा स्रोत से बनाया जाता है, तो आवश्यकता के अनुसार voltage कनेक्शन की आवश्यकता होती है यानी दो स्रोत एक साथ जुड़े होते है।।  श्रेणी क्रम और समानांतर क्रम के दो तरीके है।।

Series

सभी स्रोतों का voltage श्रेणी क्रम में एक साथ जुड़ा हुआ है, यदि दोनों स्रोत समान voltage आउटपुट देते है। तो voltage के संयोजन में voltage दोगुना हो जाता है।

उदाहरण के लिए, मान लें कि एक छोटी मोटर 1.5 voltage की सेल से चल रही है 


या बल्ब जल रहा है, लेकिन जब दो इलेक्ट्रिक सेल श्रेणी क्रम में जुड़े होते है। तो voltage 1.5 + 1.5 = 3V सभी मोटर से चलाएंगे, फिर  मोटर की गति बढ़ जाती है।  और बल्ब का प्रकाश, अर्थात, यहाँ voltage को boost मिलता है


Piaralal


voltage में परिवर्तन नहीं होता है जब voltage के सभी स्रोत 2 समानांतर क्रम में जुड़ जाते है। लेकिन उपयोग का समय बढ़ जाता है।

उदाहरण के लिए, 1.5 voltage के 3 सेल लें और उन्हें समानांतर क्रम में कनेक्ट करें, फिर voltage 1.5 रहेगा लेकिन अगर दीवार की घड़ी 1.5 वोल्ट की सेल से 6 महीने चलती है, तो समानांतर क्रम में जुड़े 3 सेल 18 महीने तक चलेगी।

Current क्या है। औऱ इसका si मात्रक क्या है?

एक सेकंड में किसी conductor के दिए गए बिंदु से गुजरने वाले electric आवेश(electric charge) की मात्रा को electric धारा कहते है।।  current एक अदिश राशि है।  इसकी SI इकाई एम्पीयर है, जिसका मात्रक A है।

Power क्या है ? और इसका si मात्रक?

किए गए कार्य की दर को शक्ति(power) कहा जाता है, अर्थात इकाई समय में कोई व्यक्ति कितना काम करता है, उस इकाई समय में किए गए कार्य(work) के मूल्य को उस व्यक्ति की power कहा जाता है।  इसलिए, कार्य (work )और Time के अनुपात को power कहा जाता है।  शक्ति की SI इकाई "वाट" या "जूल / सेकंड" है।

बिजली में voltage क्या है? - What is a voltage in electricity?

voltage एक electric सर्किट के शक्ति स्रोत से दबाव है जो एक प्रवाहित loop के माध्यम से चार्ज किए गए इलेक्ट्रॉनों (CURRENT) को धक्का देता है, जिससे उन्हें प्रकाश को रोशन करने जैसे काम करने में capable किया जाता है।  संक्षेप में, voltage = दबाव, और इसे वोल्ट (V) में मापा जाता है।  ... electric स्रोत में करंट लौटता है।

voltage कैसे बनाया जाता है? - How is a voltage created?


जब एक electric Conductive सामग्री से बना एक तार  एक चुंबकीय क्षेत्र से गुजरता है, तो electric क्षेत्र में difference पैदा करने के लिए चुंबकीय क्षेत्र अपने परमाणुओं से इलेक्ट्रॉनों को Loose करता है, इस प्रकार voltage बनता है।

voltage वास्तव में क्या है? - What is voltage exactly?

voltage एक electric potential difference है, दो स्थानों के बीच electric potential का अंतर।  electric संभावित अंतर या voltage के लिए इकाई वोल्ट है।  वॉल्ट का नाम Alessandro Volta की याद में रखा गया है।  एक वोल्ट बराबर एक जूल प्रति कूलम्ब होता है।







वोल्टेज और करंट के बीच अंतर क्या है हिंदी में वोल्टेज और करंट के बीच अंतर क्या है हिंदी में Reviewed by Rajeev Saini on December 15, 2020 Rating: 5

transformer parts and working kya hoti hai hindi me

December 13, 2020

transformer parts and working क्या है।


transformer parts and working क्या  है।

आज के समय मे कई प्रकार के transformer हैं और सभी transformer में कुछ बिशेष components होते हैं जिन्हें छोटे से छोटे और बड़े से बड़े transformer में रखा जाता है।  लेकिन जैसा कि आप जानते हैं कि कई प्रकार के transformer हैं, यही कारण है कि बड़े transformer के अंदर कई घटक स्थापित होते हैं। सभी transformer में स्थापित घटकों की सूची नीचे दी गई है, ताकि आपको पता चल जाएगा कि transformer में कौन से हिस्से हैं और कौन से हिस्से काम करते हैं और क्या काम करते हैं।


transformer में निम्नलिखित हिस्से पुर्जे होते हैं ?



1. प्राइमरी वाइंडिंग

2. सेकेण्डरी वाइंडिंग

3. transformer टैंक

4. कन्सर्वेटर


5. कूलिंग ट्यूब्स


6. ब्रीदर

7. बुकहॉल्ज रिले


8. एक्सप्लोजन वेण्ट


9. टेप चेन्जर


10. आयल इनलेट वाल्व


11. आयल आउटलेट वाल्व

12. आयल लेविल इण्डीकेटर

13. LT terminal

14. LT terminal

15. टेम्प्रेचर गेज









transformer parts and working kya hoti hai hindi me transformer parts and working kya hoti hai hindi me Reviewed by Rajeev Saini on December 13, 2020 Rating: 5

Electric induction motor क्या होती है? काम ,प्रकार

December 08, 2020

Electric induction motor का कार्यसिद्धान्त

इलेक्ट्रिक motor एक इलेक्ट्रिक मशीन है जो विद्युत ऊर्जा को यांत्रिक ऊर्जा मे परिवर्तित करती है;  अर्थात, जब यह उपयुक्त शक्ति स्रोत से जुड़ा होता है, तो यह घूमना शुरू कर देता है, जिसके कारण इसके साथ लगी मशीन भी घूमने लगती है।  और फिर यह एक विद्युत जनरेटर के विपरीत काम करता है जो यांत्रिक ऊर्जा लेकर विद्युत ऊर्जा का उत्पादन करता है।  कुछ motor विभिन्न परिस्थितियों मे motor या जनरेटर दोनों के रूप मे भी कार्य करते हैं।

Electric induction motor kya hoti hai

एक विद्युत motor विद्युत ऊर्जा को यांत्रिक ऊर्जा मे बदलने के साधन हैं।  इलेक्ट्रिक motor औद्योगिक प्रगति का एक महत्वपूर्ण संकेतक है।  यह एक बहुत ही सरल और बहुत उपयोगी मशीन है।  उद्योगों मे शायद ही कोई ऐसा उद्देश्य हो जिसके लिए एक उपयुक्त इलेक्ट्रिक motor का चयन नहीं किया जा सकता है।

Three Phase ac इंडक्शन motor की संरचना:-

Three फेज इंडक्शन motor निम्नलिखित दो अंग होते हैं


(1)  Stator :- 

(2) rotar -

(1)  Stator

इंडक्शन motor का स्टेटर एक rotate स्टेटर की तरह होता है।  यह हिस्सा सिलिकॉन स्टील की गोल चादरों की व्यवस्था करके बनाया गया है। इस पत्ती की मोटाई 0.3 मिमी से 0.65 मिमी तक हो सकती है।

भवर धारा हानियों को कम करने के लिए, प्रत्येक पत्ती पर वार्निश की पतली परतें लगाई जाती हैं।  जब सभी पत्तियों को एक साथ motor फ्रेम मे धकेला जाता है और motor फ्रेम को व्यवस्थित और कड़ा किया जाता है।  स्टेटर कवर मे, घुमावदार आंतरिक खांचे होते हैं जिसमे वाइंडिंग स्थापित होते हैं।  स्टेटर मे, ये स्लॉट अर्ध-खुले या पूरी तरह से खुले हो सकते हैं।

(2)-Rotar

यह भाग स्टेटर मे घूमता है। इसका रोटर बेलनाकार होता है, जिस पर एक नाली बनाई जाती है।  ये खांचे रोटर या  शाफ्ट के समानांतर नहीं हैं।  यह उनके ऊपर है कि वे एक-दूसरे से संपर्क न करें

motor फ्रेम दो प्लेटों आगे पीछे जुड़ी होती है और  प्लेटों को bearing के साथ लगाया जाता है। जिसमे की  rotate करता है।   स्टेटर मे 3 phase वाइंडिंग हैं जो 3 phase की आपूर्ति के साथ work करती हैं। 

Stator एक निश्चित pols के लिए कुण्डलित(wind) किया जाता है।  यदि motor मे 2 ध्रुवों हैं, तो इसकी गति 3000 r.p.m है।  और अगर इसमे 4 ध्रुव हैं, तो इसकी गति 1500 r.p.m है।    इस तरह motor की गति को ध्रुवों की संख्या को बढ़ाकर कम किया जा सकता है जो सूत्र Ns = 120f ∕  P के द्वारा निर्धारित किया जा सकता है।

यहाँ:- Ns =सिंक्रोनस स्पीड 

   f = frequency

    p  = no of poll

  रोटर winding को स्टार मे  किया जाता है। winding  के शेष सिरों को shaft पर तीन परस्पर insulator स्लिप रिंगों पर जोड़ दिया जाता है।

AC induction motor के दुसरे parts  निम्नलिखित है

Bearing seal

Baal Bearing 

Bearing cover

Side cover

Cover fan 

Terminal box

जैसा कि आप जानते हैं, motor मे मूल रूप से दो भाग होते हैं।

  1- stator है जो motor के लिए स्थिर है

  2- roter है जो motor का एक घूमने वाला हिस्सा है।

 motor mechanical energy प्रदान करता है।

 जब स्टेटर 3 phase की आपूर्ति से जुड़ा होता है

  फिर स्टेटर मे घूर्णन चुंबकीय क्षेत्र स्थापित  होता है। 

वास्तविकता मे तो magnatic field घुमता नही है लेकिन उसके pole इतनी तीव्रता से चक्रीय क्रम मे edited होते है कि वे घुमते हुए प्रतीत होते है।

घुमने वाला magnetic field स्थापित करने के लिए कम से कम दो phase का होना आवश्यक होता है । इस घुमने वाले magnetic field के सम्पर्क मे जब रोटर चालक आते है तो रोटर मे E.M.F पैदा हो

जाता है ।Roter मे विद्युत वाहक बल के कारण रोटर चालकों मे Magnetic field उत्पन्न हो जाता है और एक ही जगह पर कार्यरत दो magnetic field की पारस्परिक क्रिया से एक घुमने वाला बल उत्पन्न होता है जिससे rotar घुमनें लगता है।

Principle of ac Induction Motor

जब भी क्लोज सर्किट CONDUCTOR को घूर्णन चुंबकीय क्षेत्र मे रखा जाता है, तो CONDUCTOR घूमने की कोशिश करता है।

 3 phase INDUCTION motor की संरचना: -

3 phase INDUCTION motor मे दो भाग होते हैं।

1-  स्टेटर - stator

 2-  रोटर - roter

 1-  स्टेटर (stator) क्या होता है ?

 इंडक्शन motor का स्टेटर अल्टरनेटर के स्टेटर के समान होता है।  यह हिस्सा सिलिकॉन स्टील के गोल पत्तों को व्यवस्थित करके बनाया गया है।  सभी पत्तियों की मोटाई 0.3 मिमी से 0.65 मिमी तक होती है।

भंवर धारा नुकसान को कम करने के लिए, प्रत्येक पत्ती पर वार्निश की पतली परतें चढ़ाकर उनको insulate कर दिया जाता हैं।  जब सभी पत्तियों को एक साथ व्यवस्थित किया जाता है और motor फ्रेम के साथ कड़ा किया जाता है।  स्टेटर कोर मे, phase winding के लिए आंतरिक परिधि पर खांचे होते हैं जिसमे winding फिट होते हैं।  स्टेटर मे, ये स्लॉट अर्ध-खुले या पूरी तरह से खुले हो सकते हैं।

और स्टेटर मे दो end प्लेटों को motor फ्रेम के साथ जोड़ दिया जाता है और end प्लेटों को रोटर शाफ्ट को घुमाते हुए, बीयरिंग के साथ लगाया जाता है।  स्टेटर मे 3 phase winding होती हैं जो 3 phase की supply के साथ work करती हैं।  स्टेटर को निश्चित संख्या मे ध्रुवों के लिए wind किया जाता है।  

यदि motor 2 ध्रुवों की है, तो इसकी गति 3000r.p.m होती है।  और यदि यह 4 ध्रुवों का है, तो इसकी गति 1500 r.p.m.  होगा।  इस प्रकार ध्रुवों की संख्या बढ़ाकर motor की गति को कम किया जा सकता है इसको FORMULA Ns = 120 f/p द्वारा निर्धारित किया जाता है।

 जहाँ: - Ns = सिंक्रोनस स्पीड 

f = frequency

 p  = no of pole

(२) रोटर Rotor

  यह भी लेमिनेटेड कोर से बनाया जाता है।  इन रोटर मे 3-फेज, अल्टरनेटर की तरह दो-गुना वितरित वाइंडिंग हैं।  रोटर मे केवल एक pole की ही winding की जाती है जितनी स्टेटर मे पोल की winding होती है।

AC इंडक्शन motor का  रोटर

कई प्रकार के INDUCTION motor रोटर होते हैं, जिसके आधार पर motor्स के नाम बदल दिए जाते हैं।

जैसे कि

squirrel single cage rotor

squirrel deep bar cage rotor

squirrel dual cage rotor

wound rotor motor या slip ring motor 

रोटर वाइंडिंग को Internal रूप से एक स्टार  मे जोड़ा जाता है।  winding के शेष छोर शाफ्ट पर तीन इंटरकनेक्टेड स्लिप रिंग्स मे शामिल हो जाते हैं।

 इंडक्शन motor के अन्य भाग निम्नलिखित हैं

 (1) बेयरिंग कवर (2) साइड कवर (3)बेयरिंग सील (4) बाल बेयरिंग (5) पंखा कवर (6) टर्मिनल बॉक्स

अनुप्रयोग Applications:-

जहां उच्च प्रारंभिक थ्रस्ट या बलाघूर्ण की आवश्यकता होती है और मशीन को लोड के साथ शुरू करना पड़ता है, जैसे लिफ्ट, आरा मशीन, लाइन शाफ्ट मिल इत्यादि,  इन सब मे स्लिप रिंग Induction motor का उपयोग किया जाता है।


















Electric induction motor क्या होती है? काम ,प्रकार Electric induction motor क्या होती है? काम ,प्रकार Reviewed by Rajeev Saini on December 08, 2020 Rating: 5

Electric generator phenomena क्या है? | Types

December 02, 2020

 Electric generator phenomena क्या है?

आशा करता हूं कि आपको हमारी इलेक्ट्रिक जनरेटर फिनोमिना की पोस्ट पसंद आएगी तो आज हम इस पोस्ट में जानेंगे कि इलेक्ट्रिक जनरेटर का फिनोमिना क्या होता है इसका मतलब इलेक्ट्रिक जनरेटर किस तकनीक के ऊपर कार्य करता है इसका बेसिक प्रिंसिपल क्या होता है तो चलिए जानते हैं इलेक्ट्रिक जनरेटर फिनोमिना

Electric generator kya hota hai hindi | types | working



विद्युत चुंबकीय प्रेरण (electromagnetic phenomena) के अनुसार किसी चालक coil को चुंबक के पास ले जाया जाता है और अगर coil परिपथ से कनेक्ट है तो उसमें धारा प्रवाहित होने लगती  लगती है


electric generator कभी भी करंट को उत्पन्न नहीं करता यह सिर्फ करंट को flow करता है जैसे एक वाटर पंप पानी को आगे प्रवाहित करता है लेकिन पानी को उत्पन्न नहीं करता इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा applications of ac generators


आशा करता हूं आपको इलेक्ट्रिक जनरेटर फिनोमिना की है पोस्ट पसंद आई होगी आपने इस पोस्ट पर इलेक्ट्रिक जनरेटर कैसे मामला के बारे में जितना कुछ बताया है वह सब आपको हमारी इलेक्ट्रिक जनरेटर की पोस्ट में भी मिल जाएगा और आपको इलेक्ट्रिक जनरेटर के बारे में और ज्यादा जानकारी चाहिए तो उसके लिए हमने ऊपर एक लिंक दे रखा है

 वहां से आप इलेक्ट्रिक जनरेटर के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी ले सकते हैं और अगर आपको कोई अन्य जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं जिससे कि मैं आपके कमेंट का रिप्लाई दूंगा और हो सके तो उस कमेंट के ऊपर कोई वीडियो भी बना दूंगा और एक पोस्ट भी बना दूंगा

Electric generator phenomena क्या है? | Types Electric generator phenomena क्या है? | Types Reviewed by Rajeev Saini on December 02, 2020 Rating: 5
Powered by Blogger.