Featured Posts

[Travel][feat1]

Difference Between Conductors and Semiconductors in Hindi, Know all about Conductors and Semiconductors

July 28, 2019
Difference Between Conductors and Semiconductors in Hindi,Know all about Conductors and Semiconductors इस artical में हम conductors and semiconductors के बारे में बात करेंगे|

Difference between conductor and semiconductor

Conductor and Semi-Conductor को Electrical and Electronics दोनो में इस्तेमाल किया जाता है|

Conductor- वो धातु जिसमे से Electrical Current flow हो सकती है वो Conductor है,

Semi-Conductor=Semi-Conductor ना तो पुर्ण तरह से Conductor होते है और ना ही पूरी पूर्ण से Insulator होते है, इसलिए ही इनको Semi-Conductor बोला जाता है| इनके बारे में थोड़ा Details में जानने की कोशिश करते है-

conductor and semiconductor in hindi

What is Conductor

बह पर्दाथ जिसमें Electric Current या फिर Free Electrons आसानी से प्रवाहित (flow) हो सकते है उनको conductors बोला जाता है| किसी भी पर्दाथ की Conductivity उसमें स्थित Electrons की संख्या पर depend करती है| अच्छे Conductors वो होते है जिनका Resistance कम से कम हो|

Properties of Conductors

जिनते भी conductor है उन सभी की कुछ न कुछ property होती है जैसे-

                       Copper (तांबा)
 Electrical Cable, Transformer Winding, Motor Winding, Electric Chock etc

                  Aluminium (एल्युमीनियम)
  Winding,Electrical Cable,Capacitor etc

                          Brass (पीतल)
 Electrical Helping Equipment's

                          Iron (लोहा) 
 machines की body बनाने में किया जाता है,
electrical current का एक अच्छा conductor है|

                          Silver (चांदी)
 Circuit Breakers,Electrical Measuring Instrument, Capacitors, Contact Points etc

                     Nichrome (नाइक्रोम)
  Heating Element
 
                       Tungsten (टंगस्टन) -
 Electric Bulb, CFL

                   
                  Carbon (कार्बन)
  Resistan, Electrode ,Carbon Brush

इस प्रकार और भी बहुत से mattel है जोकि एक Conductor है और उनको Electrical and Electronics Circuit में इस्तेमाल किया जाता है|
Difference Between Conductors and Semiconductors in Hindi, Know all about Conductors and Semiconductors Difference Between Conductors and Semiconductors in Hindi, Know all about Conductors and Semiconductors Reviewed by Rajeev Saini on July 28, 2019 Rating: 5

Lifi kya hai | Lifi key kya fayde hain | working | uses

July 03, 2019
आज के समय में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जिसको wifi के बारे में नहीं पता होगा लेकिन तकनीकी विकास के साथ साथ wifi के अलावा भी और कुछ नया आ गया है जी हां हम बात कर रहे हैं lifi क्या है


यह टेक्नोलॉजी जल्दी इंटरनेट की दुनिया को बदल देगी आज के समय में शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति होगा जो इंटरनेट का प्रयोग नहीं करता हूं हर कोई चाहता है

 कि वह इंटरनेट पर कोई कार्य जल्द से जल्द कर सकें अगर कोई व्यक्ति internet पर किसी फाइल को download कर रहा है

तो वह हमेशा सोचेगा कि उसको ज्यादा और हाई स्पीड डाटा मिले लाईफाई के आते ही internet user की बहुत सारी problems दूर हो जाएंगी जिससे कि वह अपना time बचा सकेंगे और उनके काम जल्दी हो जाएंगे

अभी तक ज्यादातर लोग यह सोचते हैं कि wifi हमें high speed data देता है लेकिन जल्दी users को lifi के रूप में wifi  से ज्यादा और high speed data मिलने लगेगा लाईफाई में हमें एक एलइडी बल्ब कि नीचे खड़े होकर internet use कर सकते हैं चलिए आगे अब इसके बारे में विस्तार से जानते हैं

Lifi क्या है।या lifi क्या होता है।
यह एक high speed optical wireless technology  है जिसका पूरा नाम light fidelity है इसमें led bulb से निकलने वाली है

visible light का प्रयोग information transmission में कर जाता है।
ध्यान देने के बाद की बात यह है की लाइफ आई और वाईफाई दोनों में इंफॉर्मेशन वायलेंस शेयर होती है

Lifi- lifi यह भी दूसरे इंटरनेट ट्रांसमिशन की तरह ही कार्य करता है लेकिन इसमें ट्रांसमिशन के लिए एलइडी बल्ब की आवश्यकता होती है जिसमें की high speed data rate की आवश्यकता लाइट की स्पीड से transfer कराने के लिए होती है

Led bulb में light intensity काफी तेजी से बदलती रहती है जिसको की photo detector बायनरी ब्लैक्ड करके बायनरी डाटा में कनवर्ट कर देता है और फिर हमारे कंप्यूटर आसपास फोन पर प्रोसेस होने के लिए भेज देता है बाद में यह ऑडियो वीडियो तथा इमेज में कन्वर्ट हो जाता है

Lifi kya hai | Lifi key kya fayde hain | working | uses Lifi kya hai | Lifi key kya fayde hain | working | uses Reviewed by Rajeev Saini on July 03, 2019 Rating: 5

Types of dc motors । dc motor applications । dc motor diagram । Types of dc motors in hindi

June 10, 2019

Types of dc motors,dc motor applications


Cover this topics-
Types of dc motors,dc motor applications,dc motor diagram, Types of dc motors,dc motor theory,shunt dc motor, characteristics of dc motors

What is dc motor, dc motor क्या है
Dc motor  जो dc electrical energy को mechanical energy में change करती है अर्थात हम इसे dc motor कहते हैं

Types of dc motors
मुख्य रूप से dc motor तीन प्रकार की होती है
1- dc shunt motor
2- dc compound motor
3- dc series motor

Dc motor applications,types,duagram
Types of dc motor


Most important question for ITI interview 90% asked this 👇

1-shunt motor-  बह मोटर जिसमें field,आर्मेचर के समांतर क्रम में joint की जाती है तथा इसका starting torque,series मोटर से कम होता है

2-compund motor- बह motor जिसमें series तथा parallel दोनों प्रकार की फील्ड जोड़ी जाती है

3-series motor- वह मोटर होती है इसमें field,आर्मेचर के श्रेणी क्रम में होता है इसका शुरुआती torque बहुत अधिक होता है


Dc motor applications
यह constant speed motor होती है

Dc shunt motor application

1-use in lathe machines
2- boring mills
3-spinning and weaving machines
4-shapers
5- drill machine

Dc series motor application
यह  variable speed motor होती है तथा Dc series motor की speed कम और उसका torque, high होता है

1- cranes
2- elevator
3- hair drier
4- air compressor
5- sewing machines

Dc compound motor application
इसका tourque अच्छा नहीं होता है
1-reciprocating machines


आशा करता हूं आपको हमारी post Types of dc motors,dc motor applications,dc motor diagram, Types of dc motors,dc motor theory,shunt dc motor, characteristics of dc motors अच्छी लगी होगी


Types of dc motors । dc motor applications । dc motor diagram । Types of dc motors in hindi Types of dc motors । dc motor applications । dc motor diagram । Types of dc motors in hindi Reviewed by Rajeev Saini on June 10, 2019 Rating: 5

ITI basic interview questions and answers in hindi, placement papers

May 13, 2019
ITI interview question and answer

अपनी इस post में हम उन questions को describe करेंगे जिनको ITI interview के समय काफी ज्यादा पूछा जाता है चलिए शुरू करते हैं iti basic interview questions and answer

Fresher's  से interview में पूछे जाने वाले question👇
1- आप अपने बारे में कुछ बताइए
2-आपको किस क्षेत्र में रुचि है
3-school time में आपकी achievement
4-आप इस organization के बारे में क्या जानते हैं
5-आप यह organization क्यों join करना चाहते हैं
6-आप कितने salary की expect रखते हैं

Iti interview asked question answer in hindi

👉Polytechnic interview question/answers

Most important question for ITI interview 90% asked this 👇
Star delta startor connection
Types of motors
Electric generator
Electric मोटर कैसे काम करती है
Transformer - ट्रांसफार्मर क्या है?
Relay क्या है कैसे काम करती
Sensor in hindi
Inverter in hindi
Electromagnetic induction

Also be important question 👇
Capacitor in hindi
What is semiconductor
Current in hindi
Voltage in hindi

👉Polytechnic interview question/answers


आशा करता हूं आपको हमारी यह post अच्छी लगी होगी अगर आपको यह post अच्छी लगी है और इस post से related कोई भी गाड़ी हो तो आप comment box में comment करके मुझसे पूछ सकते हैं

और अगर आपको polytechnic या b-tech से related interview questions चाहिए तो आप comment box में comment कर देना मैं अपनी अगली polytechnic और iti interview से related post करूंगा
ITI basic interview questions and answers in hindi, placement papers ITI basic interview questions and answers in hindi, placement papers Reviewed by Rajeev Saini on May 13, 2019 Rating: 5

Electrician,इलेक्ट्रीशियन किसे कहते है।इलेक्ट्रिशियन क्या होता है ITI इलेक्ट्रीशियन क्या करता है

April 29, 2019
इलेक्ट्रीशियन किसे कहते है
दोस्तों आपको हम अपने इस post में इलेक्ट्रीशियन किसे कहते हैं इलेक्ट्रिशियन क्या होता है ITI इलेक्ट्रीशियन क्या करता है

 इलेक्ट्रिशियन कौन होता है तथा कार्य
 किसी भी इंडस्ट्री फैक्ट्री या सिनेमा हॉल हर जगह पर आपको इलेक्ट्रिशियन देखने को मिलेगा


इलेक्ट्रिशियन वह होता है जो बिजली के उपकरण पंखा मशीन,फ्रिज,कूलर, मोटर तथा अन्य electricity की वस्तु या electricity से चलने वाले उपकरणों की मरम्मत तथा निर्माण करता है

इलेक्ट्रिशियन के द्वारा उपयोग में आने वाले औजार 
जो भी छात्र ITI ओर POLYTECHNIC,DIPLOMA कर रहे होते है तो उसे इलेक्ट्रिशियन के सभी tools के बारे में पता होता है।तथा यह पता होना चाहिए      
                      
कि हम अपनी इस post में इलेक्ट्रिशियन के प्रयोग में आने वाले ज्यादा से ज्यादा Tools के बारे में बताने की कोशिश करेंगे इलेक्ट्रिशियन को अपने टूल्स का प्रयोग सही प्रकार से करना आना चाहिए

तथा उन्हें यह देखना चाहिए कि वह जो tools का प्रयोग कर रहे हैं बह सही प्रकार से कार्य करता है या नहीं कभी-कभी इलेक्ट्रिशियन जल्दी  में अपने सभी tools का इस्तेमाल नहीं करते हैं जिससे कि उन्हें कई बार current लग जाता है तथा इन्हें गंभीर नुकसान पहुंचता है

इलेक्ट्रिशियन के tools की जानकारी
 इलेक्ट्रीशियन कि वह कौन-कौन से tools होते हैं जो सबसे ज्यादा प्रयोग में आते हैं तथा वह कौन कौन से tools होते हैं जो सबसे कम प्रयोग में आते हैं तथा आपको दोनों ही प्रकार के tools के बारे में पता होना चाहिए

इन्हें भी पढ़ें ⤵

इलेक्ट्रिशियंस के tools के नाम 
जब इलेक्ट्रिशियन के tools की बात आती है तो सबसे पहले plier ओर tester आता है।

1-Plier- किसी भी electrician के पास plier और tester होना अति आवश्यक होता है तथा इलेक्ट्रिशियन इन दोनों उपकरणों के बिना अधूरा होता है इलेक्ट्रिशियन plier के द्वारा किसी तार को काटता और छीलता है।

Plier के दो प्रकार होते हैं
flat grip plier- तारों को जोड़ने के काम आती है।
Pipe grip plier- इसके द्वारा pipe को पकड़ने में मदद मिलती है।

2-tester-इसका प्रयोग इलेक्ट्रीशियन के द्वारा बहुत ज्यादा किया जाता है इसका उपयोग किसी पेंच को खोलने या टाइट करने तथा किसी wire, switch की supply चेक करने के लिए क्या जाता है tester,screwdriver से भिन्न होता है

3-continuty tester- इसका प्रयोग किसी तार या किसी भी conductor में continuty या supply है या नहीं यह पता करने के लिए होता है

मतलब यदि कोई power supply का तार टूट गया है या नहीं,यह पता करने के लिए हम continuty tester का प्रयोग करते हैं इसके अंदर 5 volt की battery होती है तथा इसका प्रयोग हम 230 voltage पर नहीं कर सकते हैं

4-series lamp- इसे हम test lamp भी कहते हैं इसका प्रयोग हम electric devices को चेक करने के लिए करते हैं कि वह सही तरह से काम कर रहा है या नहीं।

इसको हम किसी भी motor या अन्य मशीन के series में लगा देते हैं अगर lamp जलता है तो हमें पता चल जाता है कि उन उपकरणों में current आ रहा है तथा इसे उपकरणों के series में जोड़ते हैं

5-multimeter-इसे voltmeter भी कहां जाता है इसके द्वारा बहुत से measurment किए जा सकते हैं जैसे voltage,current,resistance आदि chack किए जा सकते हैं

मल्टीमीटर दो प्रकार के होते हैं।
analog multimeter- इसके अंदर कोई pointer होता है यह moving pointer होता है।
degital multimeter- इसके अंदर एक display होती है जिस पर हमें value,digit में मिलती है

6-Screwdriver set- screwdriver set भी अलग-अलग प्रकार के screw को खोलने और बंद करने के लिए होता है

इसके अंदर एक handle होता है जिसके ऊपर insulation होती है तथा अलग-अलग प्रकार की bit होती हैं जिनको हम जरूरत के अनुसार change कर सकते हैं।

7-Hammer-इलेक्ट्रिशियन को hammer की बहुत सी जगहों पर जरूरत पड़ती है जैसे कि अगर कहीं पर कुछ तोड़ना है तो  hammer के द्वारा तोड़ सकते हैं या फिर दीवार/wall में कोई कील लगानी है तो हम hammer का प्रयोग करके उसे आसानी से लगा सकते हैं

इन्हें भी पढ़ें ⤵


आशा करता हु आपको Electrician,इलेक्ट्रीशियन किसे कहते है।इलेक्ट्रिशियन क्या होता है ITI इलेक्ट्रीशियन क्या करता है की post अच्छी लगी होगी। अगर आपको इस post से related कोई भी query हो तो आप comment box में लिख सकते हैं मैं आपके सवालों का जवाब देने की पूरी कोशिश करूंगा
Electrician,इलेक्ट्रीशियन किसे कहते है।इलेक्ट्रिशियन क्या होता है ITI इलेक्ट्रीशियन क्या करता है Electrician,इलेक्ट्रीशियन किसे कहते है।इलेक्ट्रिशियन क्या होता है ITI इलेक्ट्रीशियन क्या करता है Reviewed by Rajeev Saini on April 29, 2019 Rating: 5

Sensor क्या है? Types of Sensor in Hindi

April 18, 2019

                  Sensor  in Hindi

इस पोस्ट में मैं आपको sensor,sensor in hindi,types of sensors,sensor kya hai और classification of sensor के बारे में बताऊंगा आज के समय में विभिन्न प्रकार के sensors का उपयोग किया जा रहा है

तथा technology के विकास के साथ-साथ sensors की दुनिया में भी बहुत से अपडेट आए हैं
sensor क्या है Types of Sensor in Hindi
हमारी daily routine में आज बहुत से sensors उपयोग में आते हैं जिससे कि मनुष्य को सुविधा हो तथा sensor का इस प्रकार विकसित होना technology का एक बड़ा उदाहरण है

 Definition of Sensor

Sensor को ऐसे उदाहरण यह डिवाइस के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जो हमें बल,दाब या किसी अन्य भौतिक मात्रा में परिवर्तन का पता लगाता है तथा पता लगाकर आंकड़ों को आगे भेजता है।

इन्हें भी पढ़ें ⤵

Types of sensors,sensor के प्रकार
Sensor कई प्रकार के होते हैं
1-photo sensor
2-Ir sensor
3-fingerprint sensor
4-ambient light sensor
5-proximity sensor
6-pedometer sensor
7-compass sensor
8-humidity sensor
9-temperature sensor
10-accelerometer sensor
11-pressor sensor
12-smoke,gas sensor

Classification of sensors

1-analog and digital sensors
2-active and passive sensors

Photoelectric sensor के द्वारा किसी वस्तु की दूरी उपस्थिति का पता लगाया जाता है Photoelectric sensor में एक transmitter होता है जो light beam को transmit करता है
तथा वह receiver द्वारा light signal,को रिसीव करके पता लगाता है कि वस्तु है या नहीं अगर है तो कितनी दूरी पर है इसका प्रयोग सबसे ज्यादा industry में sefty के तौर पर किया जाता है

Working Example of sensors
Photoelectric sensor में एक transmitter तथा एक receiver होता है तथा इंडस्ट्री में जिस जगह पर मशीन चल रही होता है वहां खतरे की आशंका होती है वहां पर  Photoelectric sensor लगा दिया जाता है ताकि यदि किसी मनुष्य/ ऑपरेटर से गलती से machine के अंदर हाथ  जाने पर मशीन ऑफ हो जाए ।

Infrarad sonsor - Infrarad sonsor टेक्नोलॉजी में सबसे ज्यादा प्रयोग होता है और रिमोट कंट्रोल क्षेत्र में अधिक होती है

इंफ्रारेड सेंसर की रेंज उसके मैग्नेटिक स्पेक्ट्रम पर निर्भर करती है इंफ्रारेड की frequency माइक्रोवेव और विजिबल लाइट से ज्यादा होती है

इन्हें भी पढ़ें ⤵

Sensor क्या है? Types of Sensor in Hindi Sensor क्या है? Types of Sensor in Hindi Reviewed by Rajeev Saini on April 18, 2019 Rating: 5

What is transformer, ट्रांसफार्मर क्या है इसके प्रकार

April 17, 2019
TRANSFORMER- मैं अपनी इस post में Transformer, Types of Transformers,What is Tansformer, Electrical Transforme,Power Transformer, Working of Transformer की जानकारी दूंगा क्योंकि ट्रांसफार्मर के ऊपर question ज्यादातर टेक्निकल इंटरव्यू में पूछा जाता है

      What is transformer, ट्रांसफार्मर क्या है

शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति होगा जो Transformer के बारे में नहीं जानता है Transformer ऐसी device होती है जो कि ac voltage को high या low करती है तथा इसके द्वारा supply high voltage line से low voltage लाइन में जाती है  या तथा इसके द्वारा supply low voltage line से high voltage लाइन में जाती है तथा frequency constant रहती है

इन्हें भी पढ़ें ⤵

Working Principle of Transformer, ट्रांसफार्मर की कार्य विधि

Transformers mutual induction के  सिद्धांत पर कार्य करता है जो कि ac के voltage को परिवर्तित कर देता है तथा बिना फ्रिकवेंसी में बदलाव किए जो कि हाई वोल्टेज को low voltage में तथा low वोल्टेज को high voltage में चेंज कर देता है
What is transformer, ट्रांसफार्मर क्या है इसके प्रकार

ट्रांसफार्मर के अंदर दो winding होते हैं जिसमें इनपुट वोल्टेज दिया जाता है उसे प्राइमरी वाइंडिंग तथा जहां से आउटपुट वोल्टेज प्राप्त होता है उसे सेकेंडरी वाइंडिंग कहते हैं तथा दोनों ट्रांसफार्मर के अंदर लोहे की बनी पटलित क्रोड होती है

तथा क्रोड को आयताकार बनाया जाता है जिसके ऊपर कॉपर का तार लपेटकर primary coil बनाई जाती है तथा दूसरी साइड इसी प्रकार लपेटकर secondry coil बनाई जाती है

पटलित क्रोड बनाने का कारण भवर धाराओं के प्रभाव को कम करना होता है अब बात आती है कि Transformer के  अंदर voltage, high/low कैसे होता है

primary coil winding turs तथा secondary coil winding turs की संख्या से पता चलता है कि यदि primary coil में turns की संख्या ज्यादा है

तथा secondry coil में turns की संख्या कम है तो low voltage प्राप्त होगा दूसरा यदि primary coil में turns की संख्या ज्यादा है तथा secondary में turns की संख्या कम है तो हमें low voltage प्राप्त होगा।

     Part's of Transformers, ट्रांसफार्मर के भाग

1-winding
2-core
3-insulation
4-terminals
5-tank
6-Breather

1-Winding- इसमें दो प्रकार के winding  होती है।

1-primary winding
2-secondry winding

Primary/secondary winding दोनों प्रकार के winding, couper के तार की बनाई जाती हैं दोनों winding उनके turns पर निर्भर करती है

तथा जिस winding पर यह supply दी जाती है उसे primary winding कहते हैं तथा जिस पर load लगाया जाता है उसे secondry winding कहते हैं।

2-Core- core की नरम लोहे की आयताकारआकृति होती है तथा इसके ऊपर winding होती है core, flux को चुंबकीय path प्रदान करता है।

3-Insulation- ट्रांसफार्मर के अंदर insulation का कार्य primary winding  और secondry winding का अलग अलग करना होता है तथा insulation जिस जगह होती है वहां धारा प्रथक हो जाती है

4-Terminals- transformer के टर्मिनल ज्यादातर पीतल के बनाए जाते हैं तथा terminal को primary ओर secondry पर लगाया जाता है।

5Tank- tank में Transformer oil भरा जाता है तथा tank का प्रयोग प्रशीतक के लिए किया जाता है जो कि Transformer को overheating से बचाता है

6-Breather- यह Transformer को हवा फिल्टर करके अंदर देता है तथा वातावरण की हवा की धूल के कण तथा moisture को सोख लेता है।

इन्हें भी पढ़ें ⤵
आशा करता हू आपको हमारी Transformers  ,Types of Transformers,What is Transformer,      Electrical Transformer, power,Working of transformer की पोस्ट अच्छी लगी होगी
What is transformer, ट्रांसफार्मर क्या है इसके प्रकार What is transformer, ट्रांसफार्मर क्या है इसके प्रकार Reviewed by Rajeev Saini on April 17, 2019 Rating: 5
Powered by Blogger.