Solar Inverter in hindi and inverter connection in hindi

Inverter in Hindi, solar inverter wiring connection in hindi

Hello friends, हमारी inverter in hindi की post में आपका स्वागत है। आज की post में आप जानेंगे की Inverters kaise kaam krta hai, Kya Hai, solar inverter wiring connection in hindi अगर आप भी Inverter खरीदने के बारे में सोच रहे हैं। और Inverter Ki Jankari प्राप्त करना चाह रहे है। तो आप बिल्कुल सही post पढ़ रहे है। इस post के द्वारा आपको हम इसकी जानकारी देंगे।
post अच्छी लगे तो please share करे।

इन्हें भी पढ़े👇



Inverter- inverter एक ऐसा उपकरण है जो DC current को AC current में बदल देता है.
 इसके लिए कुछ electronic components को जोड़कर सर्किट बनाया जाता है. जो कि DC करंट को AC करंट में बदल देते हैं
Inverter in hindi and inverter connection in hindi

Inverter भी ups की तरह है AC सप्लाई को DC मैं बदला जाता है और इससे सिर्फ बैटरी को चार्ज किया जाता है जब तक आप की main supply on रहती है तब तक आपके inverter की बैटरी चार्ज होती रहती है और आपका inverter MAIN को Bypass करके सीधा आउटपुट पर देता है.जिससे कि inverter का DC To AC कनवर्टर काम नहीं कर सकता. और जैसे ही आप के inverter की MAIN बंद होती है

post अच्छी लगे तो please share करे।

वह बैटरी से पावर लेता है और उसे DC To AC कन्वर्ट करता है इसीलिए जब आपके घर की पावर सप्लाई बंद होती है तो inverter हल्का झटका देता है 

इसीलिए हम इसे कंप्यूटर पर इस्तेमाल नहीं कर सकते क्योंकि एक हल्का झटका ही हमारे कंप्यूटर को बंद कर सकता है और हमारी window को करप्ट (Corrupt ) कर सकता है.

Solar inverter - Solar inverter क्या है?

inverter जिसमें बैटरी को चार्ज करने के लिए सूरज की किरणों का इस्तेमाल किया जाता है, उसे सोलर inverter कहा जाता है। सोलर inverter को चार्ज करने के लिए सोलर प्लेट की आवश्यकता होती है जो बहुत महंगी होती है।  

अगर आपके क्षेत्र में बहुत लंबे समय तक बिजली नहीं रहती है तो आप सोलर inverter खरीद सकते हैं।
  लेकिन इसके लिए आपको ज्यादा पैसे खर्च करने होंगे क्योंकि इसके लिए इस्तेमाल होने वाली सोलर प्लेट बहुत महंगी आती है।

हालाँकि आपको इस inverter की बैटरी को चार्ज करने के लिए बिजली की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन सोलर प्लेट केवल दिन में सूरज की रोशनी में काम कर सकती है, इसलिए सोलर inverter में मुख्य बिजली  supply से आपको चार्ज करने का विकल्प भी है।  

और आप चाहें तो इसे बिजली से भी चार्ज कर सकते हैं।
ध्यान रखें कि सोलर inverter और सोलर बैटरी सोलर inverter के लिए अलग-अलग आते हैं और हम इलेक्ट्रिक inverter या बैटरी का इस्तेमाल बिल्कुल नहीं कर सकते हैं।

inverter के प्रकार - inverter कितने प्रकार के होते हैं?

दोस्तों, हम हर मशीन या डिवाइस में अपनी जरूरतों के अनुसार कुछ changes करते हैं और इन changes के कारण किसी भी मशीन या डिवाइस को अलग-अलग प्रकार दिए जाते हैं।
इस प्रकार inverter 2 प्रकार के हैं जिन्हें हम नीचे बताने जा रहे हैं।

1- Electricity power inverter हिंदी में

कुछ inverter में हम बैटरी को चार्ज करने के लिए electric supply का उपयोग करते है इसे ही power inverter कहा जाता है।  power inverter भी निम्न 2 प्रकार का होता है

Pure Sine Wave Inverter  उच्च गुणवत्ता का होता है और इसमें कई प्रकार के सर्किट स्थापित होते हैं, जिसके कारण modified inverter थोड़ा महंगा होता है।
लेकिन इस इन्वर्टर में स्थापित अतिरिक्त सर्किट के कारण, इसकी कार्य क्षमता बहुत अच्छी है और यह काम करते समय न्यूनतम ऊर्जा की खपत करता है।

2- Modified Sine Wave Inverter in Hindi

Modified Sine Wave Inverter  एक साधारण inverter है जिसमें कम सर्किट होता है, जो इसे सस्ता बनाता है।
लेकिन कम सर्किट उपयोग के कारण, यह inverter अधिक शक्ति और battary खाता है और इसका प्रदर्शन भी सही नहीं है।

सौर / सोलर इन्वर्टर के प्रकार ( construction / application के आधार पर)

प्रत्येक प्रकार के सोलर इन्वर्टर का कार्य प्रमुख रूप से पहली Priority में  कनेक्टेड लोड को चलाना है।  दूसरी Priority, में यह बैटरी या ग्रिड को शेष बिजली भेजता है।  इन्वर्टर का प्रकार हम स्थिति, ग्रिड उपलब्धता, पावर कट और लोड गणना के अनुसार चुन सकते हैं

सौर इनवर्टर को तीन प्रमुख प्रकारों में वर्गीकृत किया गया है

ऑन ग्रिड सोलर इन्वर्टर - on-grid solar inverter

ऑफ ग्रिड सोलर इन्वर्टर - off-grid solar inverter

हाइब्रिड सोलर इन्वर्टर - hybrid solar inverter

ऑन ग्रिड सोलर इन्वर्टर 

ऑन ग्रिड सोलर इनवर्टर सरकारी ग्रिड और बिजली के पर काम करते हैं

on-grid solar inverter हमारे लोड को चालू रखता है और पावर ग्रिड को अतिरिक्त बिजली भेजेगा।  ये इनवर्टर पूरी तरह से स्वचालित और intelligent इनवर्टर होता हैं जो Inbuilt सुरक्षा के साथ होते हैं जो पूरे सौर मंडल और सौर पैनल की रक्षा करते हैं।

ग्रिड सोलर इन्वर्टर आमतौर पर शहरी घरों, Industrial और Commercial क्षेत्रों में उपयोग किया जाता है, 

हाइब्रिड सौर इन्वर्टर

हाइब्रिड इन्वर्टर off grid और on-grid सोलर इन्वर्टर का एक combination hota है।  यह इन्वर्टर सोलर पैनल की बैटरी स्टोरेज और Utility ग्रिड को एक साथ मैनेज करता है।  ये modern ऑल-इन-वन इनवर्टर आमतौर पर अत्यधिक Versatile हैं और ग्रिड टाई या बैकअप ओर  स्टैंड-अलोन  Applications के लिए उपयोग किया जा सकता है।

इनवर्टर कितने का मिलता है?

विभिन्न प्रकार के इनवर्टर उपलब्ध है जिनकी कीमत मुझे एप्लीकेशन के अनुसार होती है एक Specific MPPT चार्जर Controller की कीमत सामान्य इन्वर्टर के बजाय कम से कम ₹5000 से   ₹5500 तक होती है, आप लोग डायरेक्ट सोलर इन्वर्टर खरीदते हैं, आप ₹25000 या ₹3000 से अधिक का payment करना है  यह इस बात पर Dependent करता है कि आप कितना बड़ा या कितना KVA का इन्वर्टर ले रहे हैं 

इन्वर्टर बैटरी की कीमत - 8000 से 14500 तक कि मिल जाती है 

सोलर सिस्टम कैसे काम करता है?

जब सूर्य की रोशनी इन Cells से टकराती है, तो फोटॉन की ऊर्जा solar panel के सेल द्वारा Absorbed हो जाती है और ऊपरी परत में इलेक्ट्रॉन Active हो जाते हैं।  तब उनमें उत्पन्न ऊर्जा प्रवाहित होने लगती है।  धीरे-धीरे, यह ऊर्जा पूरे पैनल में फैलती है । इस तरह सौर पैनल ऊर्जा का उत्पादन करते हैं

Working of inverter

inverter चार्जिंग और डिस्चार्जिंग के नियमों पर काम करता है।  inverter या UPS, जब कोई बिजली नहीं होती है, तो यह बैटरी की ऊर्जा का उपयोग करके इसे ac supply में बदल देता है और जब बिजली आती है, तो यह बैटरी को चार्ज करना शुरू कर देता है।

 inverter बैटरी चार्ज करते समय output supply को बायपास करता है।  यानी चार्जिंग के दौरान आपके घर का सारा लोड आपकी सप्लाई पर चला जाता है, जिससे बैट्री पर लोड खत्म हो जाता है और यह तेजी से चार्ज होने लगती है और इससे बैटरी की life भी बढ़ जाती है।

Inverter के parts हिंदी में

1-battary
2-ups

1- battary - Inverter में बैटरी का काम क्या है ?
  बैट्री किसी भी Inverter का power source है।  आउटपुट power आपको Inverter से मिलती है

इसके लिए आवश्यक ऊर्जा battary से ली जाती है।  आपको अपने घर के load के अनुसार आवश्यक एम्पीयर की बैटरी खरीदनी होगी।

 2-UPS (Inverter) - यूपीएस इन्वर्टर का क्या काम है?

 UPS का पूर्ण रूप (full form) "Uninterruptible Power Supply" है।
 इसका कार्य DC  करंट को AC बिजली की supply में  बदलना है।  और AC करंट को DC करंट में बदलना होगा। 

आसान शब्दों में, ups का कार्य बिजली की अनुपस्थिति में बिजली की आपूर्ति (AC करंट)  को Dc में परिवर्तित करना और electric supply  से उसी बैट्री को चार्ज करना है। ups को आपकी बैटरियों के एम्पीयर के अनुसार खरीदा जाना चाहिए ।

inverter के उपयोग के निम्नलिखित फायदे हैं

inverter शोर मुक्त - inverter जनरेटर की तरह शोर नहीं करता है ताकि इसके आसपास किसी को कोई समस्या न हो।

inverter Support max. Device – inverter अधिकांश उपकरणों का Support करता है।  inverter की मदद से हम अपने घर में ज्यादातर इलेक्ट्रिक डिवाइस चला सकते हैं।

Inverter Takes Less Space –आप घर में किसी भी जगह पर inverter लगा सकते हैं।  वे बहुत कम जगह लेते हैं और यह Space बचाता है, यह एक बहुत अच्छी बात है

फ्यूल - inverter को चलाने के लिए हमें किसी भी तरह के फ्यूल की जरूरत नहीं है।  हम इसे आसानी से उपयोग कर सकते हैं।  समय-समय पर, inverter की बैटरी में पानी के स्तर की जाँच करनी होती है, अगर पानी का level कम हो रहा है, तो हमें इसमें आसुत जल (distilled water)डालना चाहिए।

UPS और inverter में क्या अंतर है ?


inverter और UPS इन दोनों का उपयोग Power Supplies के लिए किया जाता है।  लेकिन फिर भी अगर उनके बीच अंतर पाया जाता है तो इन दोनों में क्या अंतर है। मै आगे आपको बता रहा हूँ:


Time Lag (समय अन्तराल)


जब UPS काम करता है, तो यह बैटरी की power पर  काम करता है।  मतलब जब UPS की supply चालू या बंद होगी, तो यह UPS के output को प्रभावित नहीं करता है।  UPS में कोई समय अंतराल नहीं है।

लेकिन inverter में 500 मिलीसेकंड का टाइम लैग होता है।  इसलिए जब मुख्य आपूर्ति बंद हो जाती है या उसमें शुरू होती है, तो हम जानते हैं कि मुख्य आपूर्ति कब बंद हो गई है और कब शुरू हुई है।


Backup


UPS का उपयोग कुछ समय के लिए कंप्यूटर को चालू करने के लिए किया जाता है।  ताकि यह डेटा को बचा सके।  और कंप्यूटर को बंद कर दें।

इसलिए UPS बैकअप 10 से 15 मिनट या थोड़ा अधिक है।  लेकिन inverter पर, हम लंबे समय तक एक बड़ी डिवाइस भी चला सकते हैं।  inverter पर एक बड़ी बैटरी का उपयोग किया जाता है।  इसलिए इसमें अधिक बैकअप उपलब्ध है।


UPS का उपयोग डायरेक्ट डिवाइस पर किया जाता है।  जैसे की कंप्यूटर, प्रिंटर और स्कैनर, लेकिन हम inverter का उपयोग पूरे घर की मुख्य आपूर्ति के साथ-साथ स्विच बोर्ड पर भी करते हैं।


Prize


सोलर बैटरी,इन्वर्टर कीमत


आपको 15-1600 रुपये में UPS मिलता है। और inverter 9-10 हजार रुपये में मिलता है।  लेकिन अगर power बैकअप और रेटिंग की बात करें तो UPS ज्यादा महंगा है।  मशीनरी और सर्किट के कारण UPS महंगा है।


Voltage


UPS में Automatic Voltage Regulation(AVR)  का प्रयोग किया जाता है।  इसका output  220 वोल्ट पर सेट है।  Inverter में output input पर निर्भर होती है।  जो 230 वोल्ट के करीब है।


 Ups and inverter power supply


Inverter एक UPS की तरह होता है, AC supply को DC में कन्वर्ट किया जाता है और यह केवल तब तक बैटरी चार्ज करता है जब तक आपकी मेन supply ON होती है, तब आपकी Inverter बैटरी charge होती रहती है और आपका Inverter MAIN से बायपास हो जाता है।  सीधे output पर लौटता है।  ताकि Inverter के DC से AC कनवर्टर काम न कर सकें।  और जैसे ही आपके Inverter का MAIN बंद हो जाता है,


यह बैटरी से बिजली लेता है और इसे DC से AC में परिवर्तित करता है, इसलिए जब आपका होम power supply बंद हो जाता है, तो Inverter को थोड़ा झटका लगता है, इसलिए हम इसका उपयोग नहीं कर सकते ।   क्योंकि केवल एक हल्का झटका हमारे कंप्यूटर को बंद कर सकता है और हमारी window को corrupt कर सकता है।


Use


UPS का उपयोग सीधे डिवाइस के ऊपर किया जाता है।  किसी विशेष उपकरण के लिए UPS की आवश्यकता होती है, जैसे कि कंप्यूटर प्रिंटर या स्कैनर।

लेकिन हम स्विच बोर्ड पर Inverter का उपयोग पूरे घर की Main Supply के साथ करते हैं।


कीमत


वैसे, UPS आपको बाजार में 15 से 1600 रुपये और इन्वर्टर आपको कम से कम 9-12 हजार रुपये में मिलता है।  लेकिन अगर इसके power backup  और रेटिंग की बात करें तो इस मामले में UPS बहुत महंगा है।  UPS अपनी मशीनरी या सर्किट के कारण महंगा है




अपने इन्वर्टर / UPS बैटरी बैकअप time की गणना कैसे करें। बैटरी बैकअप time की गणना करें किसी भी बैटरी का बैकअप time प्राप्त करने के लिए, हमें पहले से कुछ चीजें पता होनी चाहिए, जैसे कि हम बैटरी पर कुल कितना लोड (वाट) कनेक्ट करने जा रहे हैं? बैटरी वोल्टेज कितना है? बैटरी कितनी ah है? और बैटरी की कितनी Efficiency का उपयोग करना है? हम बैटरी से बैटरी वोल्टेज, बैटरी ah और बैटरी Efficiency प्राप्त करेंगे, लेकिन हमें लोड की गणना करनी होगी, जिसे हम बैटरी वोल्टेज से इन्वर्टर की मदद से चलाने जा रहे हैं? मान लीजिए हमारे घर का लोड 1000 वॉट है जिसे हम इन्वर्टर से कनेक्ट करने जा रहे हैं। बैटरी बैकअप निकालने का सूत्र होगा: -

 h = battery Ah × battery voltage × number of battery × efficiency / total load 

यदि Battery Ah :- 140 Ah Battery Voltage :- 12V Number of Battery :- 1 Efficiency :- 80% (0.8) ( battery को 80% से ज्यादा use नही किया जाता है) Total load :- 1000 watt इस प्रकार battery backup time होगा :- = 140×12×1×0.8 / 1000 h = 1344 / 1000 h = 1.34h

सौर प्लेट/ सोलर प्लेट कितनी की मिलती है?


 सोलर पैनल की कीमत प्रति वाट के अनुसार मिलती है।  इसकी कीमत 40 रुपये से 80 रुपये प्रति वाट है।  और इसकी कीमत कंपनी और इसकी क्वालिटी पर Dependent करती है।


ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम क्या है?


ऑन-ग्रिड सौर प्रणाली को ग्रिड-कनेक्टेड सोलर सिस्टम या ग्रिड टाई सोलर सिस्टम भी कहा जाता है।  ओर ग्रिड का मतलब सरकारी बिजली होता है

इस सौर सिस्टम में, सौर पैनल बिजली उत्पन्न करते हैं और सौर इनवर्टर सौर पैनलों से उत्पन्न DC शक्ति को 220V / 440V में Changed करते हैं, जिसका उपयोग घरों, स्कूलों, कॉलेजों आदि में किया जा सकता है।


बैटरी में कौन सा पानी डाला जाना चाहिए?


आसुत जल इनवर्टर बैटरी में डालने के लिए सबसे अच्छा पानी होता है और इसे अंग्रेजी में डिस्टिल्ड वाटर कहते हैं और आसुत जल साधारण पानी को उबालकर उसकी भाप से बनाया जाता है जब पास ठंडी हो जाती है तो आसुत जल बन जाता है और इस प्रकार से बना हुआ जल बहुत ही साफ होता है और इसमें किसी भी प्रकार की कोई मिलावट नहीं होती है


पीने के पानी में TDS की कितनी जरूरत है? TDS कितना होना चाहिए?

TDS एक घुलनशील लवण है, जो पानी में मौजूद होना चाहिए, लेकिन Overdose खतरनाक है। स्वच्छ पेयजल में TDS की मात्रा 2,000 mm प्रति लीटर होनी ही चाहिए। आजकल सभी प्रकार के RO प्लांट तथा इंडस्ट्रीज में TDS का विशेष ध्यान रखा जाता है


बैटरी से आपका क्या मतलब है? बैटरी क्या है? एक बैटरी में दो या दो से अधिक विद्युत cells होती हैं। बैटरी direct current (DC) प्रदान करती है। इसलिए हमें एक ऐसे उपकरण की जरूरत होती है जोकि DC को AC (Alternative current) में बदल सकता हो इसके लिए एक इन्वर्टर का उपयोग किया जाता है। dc से ac में बदलने का यह प्रमुख उपकरण है। यदि लंबे समय तक बैटरी का उपयोग नहीं किया जाता है तो बैटरी को क्यों Discharge किया जाता है? कम उपयोग: ज्यादातर लोग अपनी कार या बाइक का उपयोग लंबे समय तक नहीं करते हैं, जिसके कारण बैटरी अपने आप खत्म हो जाती है। ओर यह बिल्कुल भी ठीक नहीं होता है। ओर ढीले Contacts के कारण भी रासायनिक पदार्थ बैटरी से बाहर आ जाते हैं। - बैटरी को ज़्यादा गरम न करें, क्योंकि इससे विस्फोट हो सकता है।



सोलर इन्वर्टर का कनेक्शन कैसे करे?

इन्हें भी पढ़ें ⤵

आपको Inverter in hindi, solar inverter connection kaise kiya jata hai in hindi की यह पोस्ट कैसी लगी comment box मे comment करके बताये। अगर आपको सोलर इनवर्टर से रिलेटेड कोई भी क्वेश्चन हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं

या आप हमें हमारी ऑफिशल ईमेल आईडी पर ईमेल करके भी हमसे बात कर सकते हैं  अगर आपको इस पोस्ट में कोई भी गलती हुई नजर आती है तो आप हमें कमेंट करके या हमारी ऑफिशल आईडी पर ईमेल अवश्य करें जिससे हम अपनी पोस्ट को और भी बेहतर बना सकते हैं अगर आपका सुझाव है तो भी हमें बताइए।

post अच्छी लगे तो please share करे।
Solar Inverter in hindi and inverter connection in hindi Solar Inverter in hindi and inverter connection in hindi Reviewed by Rajeev Saini on March 14, 2019 Rating: 5

No comments:

Thanks you for comment

Powered by Blogger.